Satya Darshan

यूपी में क्यों नहीं रूक रहे अपराध

लखनऊ (एसडी) | जून 11, 2019

उत्तर प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से ताबड़तोड़ आपराधिक घटनाओं के चलते राज्य की योगी सरकार एक बार फिर न सिर्फ विपक्ष के निशाने पर आ गई है बल्कि कानून व्यवस्था को लेकर चौतरफा सवाल भी उठ रहे हैं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था को लेकर उठ रहे सवालों के बारे में उच्चस्तरीय बैठकें करके अधिकारियों पर शिकंजा कसा है. राज्य में बड़े पैमाने पर प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों के तबादले भी हुए हैं. बावजूद इसके हर दिन कोई न कोई गंभीर वारदात होने से नहीं रुक रही है. अलीगढ़ के टप्पल कस्बे में ढाई साल की मासूम की नृशंस हत्या, कुशीनगर में किशोरी से गैंगरेप, कानपुर मदरसे में छात्रा से दुष्कर्म, हमीरपुर और जालौन में मासूम लड़कियों की रेप के बाद हत्या जैसे संगीन अपराधों से राज्य की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए हैं. 

यही नहीं, पुलिसकर्मियों पर हमले, लूट, हत्या और डकैती जैसे अपराधों में अचानक बढ़ोत्तरी से योगी सरकार के बार-बार किए जा रहे उन दावों की भी पोल खुल गई है कि "अपराधी डर कर या तो राज्य से बाहर चले गए हैं या फिर जमानत रद्द कराकर जेल में बंद हैं."

अलीगढ़ में मासूम लड़की की जघन्य हत्या से देश भर में उबाल है. राज्य में कई जगह इसे लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं, कैंडल मार्च निकाले जा रहे हैं और राज्य की कानून व्यवस्था पर चिंता जताई जा रही है. हालांकि इस मामले में पुलिस ने मुख्य अभियुक्त के साथ तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन एक के एक बाद कई जगहों पर हो रहीं ऐसी वारदातों से लोग सकते में हैं. एक दिन पहले जालौन में भी एक मासूम लड़की की कथित रेप के बाद हत्या कर दी गई और शव को खेत में फेंक दिया गया जबकि कुशीनगर में बारह साल की एक दलित लड़की को पड़ोस के ही कुछ लोग कथित तौर पर उसे उठा ले गए और उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया.

अलीगढ़ और उसके बाद होने वाली ऐसी तमाम घटनाओं ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है. लोग आरोपियों को सीधे मौत की सजा देने की मांग कर रहे हैं. अलीगढ़ में ही बजरंग दल के हजारों कार्यकर्ता रविवार को इकट्ठा होकर महापंचायत करने वाले थे हालांकि पुलिस ने बलप्रयोग करके ऐसा नहीं करने दिया. ये लोग महापंचायत के जरिए ऐसे अपराधियों को सीधे फांसी की सजा देने की मांग कर रहे थे. हालांकि पुलिस ने साध्वी प्राची और प्रज्ञा ठाकुर जैसे कई लोगों को अलीगढ़ जाने ही नहीं दिया जिससे पूरे कस्बे में छावनी जैसी स्थिति भले ही बनी रही लेकिन कोई घटना नहीं होने पाई.

वहीं ऐसी घटनाओं से लोगों में भी जमकर आक्रोश है. यूपी के कई इलाकों में पोस्टर लगाकर लोग सरकार से बेटियों को सुरक्षा देने की अपील कर रहे हैं. यहां तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी लोगों ने अपने घरों के बाहर पोस्टर लगाए हैं जिन पर लिखा है- "सरकार सुरक्षा दें... क्योंकि घर में बेटियां हैं." कानून व्यवस्था एक ऐसा मुद्दा है जिसे लेकर भारतीय जनता पार्टी यूपी की पूर्ववर्ती सरकार पर जमकर हमला बोलती रहती थी लेकिन अपराध और अपराधियों पर तमाम तरह के अंकुश की कोशिशों और दावों के बावजूद, अपराध बढ़ते ही जा रहे हैं. बड़ी संख्या में अपराधियों के एनकाउंटर को लेकर सरकार को कठघरे में भी खड़ा किया गया लेकिन वो इसे जायज ही ठहराती रही है. 

अब सवाल ये भी उठ रहे हैं कि आखिर एनकाउंटरों का डर दिखाकर भी सरकार अपराधियों में खौफ पैदा नहीं करने पा रही है और अपराध होने से नहीं रोक पा रही है. प्रदेश की कानून व्यवस्था पर यूपी के डीजीपी ओम प्रकाश सिंह का कहना है, "बच्चियों के खिलाफ अपराध बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे. आरोपियों को सख्त से सख्त सजा मिलेगी. पुलिस पूरी संवेदनशीलता से काम कर रही है और इन मामलों में अभियुक्तों को गिरफ्तार कर साक्ष्य इकट्ठा कर लिए गए हैं.”

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved